Breaking News Latest News झारखण्ड

पारिवारिक उपभोग व्यय सर्वेक्षण पर तीन दिवसीय क्षेत्रीय प्रशिक्षण कार्यक्रम आरंभ

 

रांची, झारखण्ड  | जुलाई  | 20, 2022 ::  भारत सरकार के सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय के अधीन राष्ट्रीय सांख्यिकीय कार्यालय (क्षेत्र संकार्य प्रभाग) द्वारा 1 जुलाई 2022 से पारिवारिक उपभोग व्यय सर्वेक्षण आरंभ किया जा रहा है। 30 जुन 2023 तक चलने वाले इस सर्वेक्षण के अंतर्गत पारिवारिक उपभोग व्यय सर्वेक्षण पर आंकडे एकत्रित किया जाएगा। इस सामाजिक आर्थिक सर्वेक्षण के लिए आज दिनांक 20/07/2022 से रांची के कांटाटोली चौक स्थित होटल जेनिस्ता इन् में तीन दिवसीय क्षेत्रीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का आरंभ हुआ। 22 जुलाई तक चलने वाले इस प्रशिक्षण शिविर में राष्ट्रीय सांख्यिकीय कार्यालय के कर्मचारियों को सर्वेक्षण संबंधित महत्वपूर्ण जानकारियां प्रदान की जाएगी। प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्घाटन संयुक्त रूप से झारखण्ड सरकार के स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री बन्ना गुप्ता और राष्ट्रीय सांख्यिकीय कार्यालय के झारखण्ड राज्य प्रमुख सह उप महानिदेशक श्री रंजीत कुमार तिवारी ने किया। इस अवसर पर राज्य सरकार के अर्थ एवं सांख्यिकी निदेशालय के उप निदेशक श्री ह्रदय कुमार, राष्ट्रीय सांख्यिकीय कार्यालय के कार्यलय प्रमुख श्रीमति ओमा लवली लकड़ा, झारखण्ड राज्य स्थित विभिन्न राष्ट्रीय सांख्यिकीय कार्यालय के प्रभारी श्री संजय कुमार मिश्रा, श्री सूरज कुमार, श्री संजीव कुमार साहू, श्री रंजित कुमार, श्री कमलेश प्रधान, श्रीमति अमिता रोज तिर्की, एवं श्री विनय कुमार सहित अन्य लोग उपस्थित थे। प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए उप महानिदेशक श्री रंजीत कुमार तिवारी जी ने पारिवारिक उपभोग व्यय सर्वेक्षण के उद्देश्य एवं महत्व पर प्रकाश डाला। जिसके तहत पारिवारिक उपभोग व्यय सर्वेक्षण का उद्देश्य जनसंख्या के विभिन्न सामाजिक वर्गों के प्रति व्यक्ति उपभोग व्यय का अनुमान लगाना तथा अखिल भारतीय स्तर पर इनका मूल्यांकन करना है। पारिवारिक उपभोग व्यय का सर्वेक्षण परिवार उपभोग व्यय आंकड़े जो कि जीवन स्तर सामाजिक उपभोग, और इसकी असमानताओं जैसे सांख्यिकीय सूचकों के मुख्य श्रोत पर आंकडे एकत्रित करना है। साथ ही साथ उप महानिदेशक महोदय ने बताया कि यह कार्य सूचना प्रणाली सॉफ्टवेयर के माध्यम से किया जाएगा। आंकड़े सीधे टेबलेट पर एकत्रित किए जाएंगे। इसलिए अधिकारियों को फील्ड ऑपरेशन के दौरान काफी सजग रहने की आवश्यकता है। सर्वेक्षण अंडमान और निकोबार के दुर्गम इलाकों को छोड़कर संपूर्ण भारत में किया जाएगा।

इस सर्वेक्षण की सफलता जनता द्वारा प्रदान की गई जानकारी की गुणवत्ता पर निर्भर करती है। अतः झारखंडवासियों से विनम्र आग्रह है कि एन.एस.ओ के अधिकारीगण आवश्यक आंकड़े एकत्र करने के लिए जब आपसे संपर्क करेंगे तथा आपसे जानकारी एकत्र करेंगे तो उन्हें आप पूर्ण सहयोग करेंगे। आपके सहयोग एवं आवश्यक सहायता के बिना अपेक्षित आंकड़ों का प्राप्त करना संभव नहीं होगा। अतः राष्ट्रीय सांख्यिकीय कार्यालय आपसे अपील करती है कि इस विभाग के अधिकारियों को अपना सहयोग प्रदान करें तथा उन्हें सही एवं पूर्ण जानकारी उपलब्ध कराने के लिए अपना बहुमूल्य समय प्रदान करें एवं राष्ट्र निर्माण की प्रक्रिया में मूल्यवान सूचना प्रदान कर गौरवशाली भारतीय बनें।

इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि महोदय झारखण्ड सरकार के स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री बन्ना गुप्ता ने कहा कि राष्ट्रीय सांख्यिकीय कार्यालय द्वारा एकत्रित किए जाने वाले आंकड़ों का देश के विकास में महत्वपूर्ण योगदान है क्योंकि किसी भी प्रकार की योजना जो सरकार के द्वारा चलाई जाती है उसके लिए सटीक आंकड़ों का रहना अति आवश्यक है ताकि समाज के किसी वर्ग तक और किसी स्थान पर किस प्रकार की योजना लागू की जानी चाहिए, इसका सटीक आकलन हो सके। इसके सटीक आकलन का यह महत्वपूर्ण कार्य राष्ट्रीय सांख्यिकीय कार्यालय के डाटा के आधार पर किया जाता है। इसके लिए यहां के अधिकारियों एवं कर्मचारियों के योगदान की सराहना की जानी चाहिए।

Leave a Reply