Breaking News Latest News झारखण्ड

गुरुद्वारा श्री गुरूनानक सत्संग सभा में श्री गुरुग्रन्थ साहिब जी का पहला प्रकाश गुरुपर्व मनाया गया.

रांची , झारखण्ड | अगस्त | 31, 2019 :: गुरुद्वारा श्री गुरूनानक सत्संग सभा,कृष्णा नगर कॉलोनी में श्री गुरुग्रन्थ साहिब जी का पहला प्रकाश गुरुपर्व मनाया गया.
इस उपलक्ष्य में सत्संग सभा द्वारा आज 31 अगस्त, शनिवार को सुबह 7 बजे से विशेष दीवान सजाया गया.
विशेष दीवान की शुरुआत आसा जी दी वार कीर्तन से हुई.
हजूरी रागी जत्था भाई महिपाल सिंह जी एवं साथियों ने “संतां के कारज आप खलोआ हर कम करावन आया राम………” एवं “वाणी गुरु गुरु है वाणी विच वाणी अमृत सारे……….” तथा “गुरवाणी कहै सेवक जन मानो परतख गुरु निस्तारे…………” शबद गायन कर साध संगत को निहाल किया.

गुरुद्वारा के हेड ग्रन्थी ज्ञानी जिवेंदर सिंह जी ने कथावाचन में गुरुग्रन्थ साहिब जी की महिमा का गुणगान करते हुए साध संगत को बताया कि श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी का संपादन आज ही के दिन पांचवें गुरु ‘गुरु अर्जन देव जी’ ने सन् 1604 ईसवी में किया था और इस दिवस को सभी सिख धर्मावलंबी पहला प्रकाश पर्व के रूप में मनाते हैं.

1,430 पन्नों में उल्लेखित रागमयी गुरुबाणी गुरु ग्रंथ साहिब जी की शोभा को बढ़ाती है.इस महान ग्रंथ के संकलन,आलेखन एवं उच्चारण से जुड़ा इतिहास इसके सुनहरे शब्दों की तरह ही सुनहरा है.श्री गुरुग्रन्थ साहिब में भगत कबीर, भगत रामानंद, भगत सूरदास,भगत रविदास तथा भगत भीखण की बाणी दर्ज है.
इसके साथ ही भगत नामदेव, भगत त्रिलोचन, भगत परमानंद, भगत धन्ना, भगत पीपा आदि भगतों ने धार्मिक उपदेश दिए, ना केवल हिन्दू संत बल्कि विभिन्न शेखों की रचना को भी गुरुग्रन्थ साहिब में जगह दी गई.शेख फरीद, भगत जयदेव, भगत सैन, भगत बेनी, भगत सदना, सभी के उपदेश शामिल हैं इस महान ग्रंथ में.
छः पौड़ी अनंद साहिब जी के पाठ, अरदास, हुक्मनामा एवं कढ़ाह प्रसाद वितरण के साथ सुबह 10.45 बजे दीवान की समाप्ति हुई.
दीवान की समाप्ति के उपरांत गुरु का अटूट लंगर चलाया गया जिसमें सैंकड़ों की संख्या में संगत ने एक साथ पंगत में बैठकर गुरु का लंगर चखा.इस अवसर पर सत्संग सभा के महासचिव रामकृष्ण मिढ़ा ने समूह साध संगत को प्रकाश पर्व की बधाई दी.

सभा के मीडिया प्रभारी नरेश पपनेजा ने बताया कि गुरूनानक देव जी महाराज के 550वें प्रकाश पर्व को लेकर पाकिस्तान के ननकाणा साहिब से निकली शबद गुरु यात्रा जिसमें सवारी साहिब में श्री गुरुग्रन्थ साहिब जी सुशोभित हैं का गुरद्वारा श्री गुरूनानक सत्संग सभा द्वारा 3 सितंबर, मंगलवार को सुबह 8.30 बजे मेट्रो गली चौक, रातु रोड में भव्य स्वागत किया जाएगा.
यह यात्रा यहाँ से गुमला के रास्ते राउरकेला के लिए प्रस्थान करेगी.
आज के दीवान में जयराम दास मिढ़ा,हरविंदर सिंह बेदी,ऋषिकेश गिरधर,सूंदर दास मिढ़ा, द्वारका दास मुंजाल,हरगोविंद सिंह,अर्जुन दास मिढ़ा, अमरजीत गिरधर,चरणजीत मुंजाल,नरेश पपनेजा,अशोक गेरा,इंदर मिढ़ा,सुरेश मिढ़ा,विनोद सुखीजा,गुलशन मिढ़ा,मोहन काठपाल,आशु मिढ़ा,रमेश गिरधर,अजय धमीजा,नानक चंद अरोड़ा,मनीष गिरधर,स्वर्णदीप मिढ़ा,सूरज झंडई,बबली मिढ़ा,मंजीत कौर,नीता मिढ़ा,शीतल मुंजाल,इंदु पपनेजा,बिमला मिढ़ा,बबिता पपनेजा,खुशबू मिढ़ा,मनौरी काठपाल, बेबी मुंजाल,बंसी मल्होत्रा समेत अन्य शामिल थे.

Leave a Reply