Latest News झारखण्ड राष्ट्रीय

पत्रकारों पर हमले के विरोध और पत्रकार सुरक्षा कानून की मांग को लेकर जेयुजे का एकदिवसीय धरना 

   रांची, झारखण्ड । जून  | 22, 2017 :: झारखंड यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट [ जेयुजे ] के तत्वावधान में 22 जून 2017 को दिन के 10.30 बजे से पत्रकारों पर हमले के विरोध और सुरक्षा कानून बनाए जाने की मांग के लिए राज्यपाल भवन के पास एकदिवसीय धरना दिया गया। इसमें झारखंड के सभी जिलों के पत्रकार शामिल हुए। सभी ने एक स्वर में आए दिन पत्रकारों पर हो रहे हमले पर सरकार की खिंचाई करते हुए सुरक्षा कानून बनाए जाने के मुद्दे पर आवाज बुलंद की। साथ ही मांडर के थानेदार पर कार्रवाई नहीं किए जाने का भी जोरदार विरोध किया गया। धरने के बाद यूनियन की तरफ से राज्यपाल को इन्हीं मांगों के संबंध में एक ज्ञापन भी सौंपा गया। धरने को राष्ट्रीय सरना युवा संघ, परहिया समिति समेत विभिन्न संगठनों ने समर्थन दिया।

धरना को संबोधित करते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री सह रांची के पूर्व सांसद सुबोधकांत सहाय ने कहा कि चार दिन पहले हिन्दुस्तान के पत्रकार ललन पांडेय पर मांडर में हुए हमले की सिर्फ बात नहीं है, देशभर में निष्पक्षता से कलम चलानवाले सिपाहियों पर लगातार हमले हो रहे हैं। इस पर किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं हो रही है। फिलवक्त केंद्र और राज्य की सरकार अंधी, बहरी और गूंगी हो गई है। उन्होंने गिरिडीह के पीरटांड़ और
हजारीबाग में पत्रकारों की हत्या, पलामू के पत्रकार पर हमले का भी कड़ा विरोध जताया।


वरिष्ठ पत्रकार हरिनारायण सिंह ने धरने में कहा कि आपके पास कलम है, इससे लड़ने की जरूरत है। रही बात सरकार की, तो वक्त आने पर कलम से ही उन्हें भी सबक सिखाया जाएगा।


धरने की अध्यक्षता करते हुए यूनियन के अध्यक्ष रजत गुप्ता ने कहा कि पत्रकार पर हमला हो रहा है, तो इसी एकजुटता को बनाए रखने की जरूरत है। हम दूसरों की आवाज बुलंद करते हैं, तो खुद की सुरक्षा के लिए भी संघर्ष करेंगे। मंच संचालन करते हुए यूनियन के महासचिव शिव अग्रवाल ने कहा कि ललन पांडेय पर हमला करानेवाले थानेदार पर अब तक कार्रवाई नहीं होने से शासन और प्रशासन की मंशा समझी जा सकती है। उन्होंने रघुवर सरकार को भी जमकर कोसा। साथ ही सरकार और प्रशासन की दलाली करनेवाले पत्रकारों को भी चेतावनी दी कि पत्रकारों का अहित नहीं करें।
उनके चाहने या न चाहने से यह संगठन बिखर नहीं सकता और पत्रकार के खिलाफ कृत्य करनेवाला कभी पत्रकार नहीं होता। धरने को वरिष्ठ पत्रकार जगदीश
सलूजा, भीष्म सिंह, धीरेंद्र चौबे, मनोज मिश्र, नागेंद्र शर्मा,
राष्ट्रीय सरना युवा संघ के एतो उरांव समेत विभिन्न जिलों से आए प्रतिनिधियों ने संबोधित किया।  धन्यवाद ज्ञापन यूनियन के नवमनोनीत प्रवक्ता अरविंद प्रताप ने किया। धरने में वरिष्ठ पत्रकार चंदन मिश्र, संजय समर, अमित अखौरी, ललन पांडेय, अमरनाथ पाठक, अजीत जायसवाल, प्रदीप बर्मन, जीतेंद्र कुमार, जयप्रकाश, जयंत कुमार, मनोज कुमार झुन्नू, विनय कटियार, अरविंद कुमार, कैलाश यादव, प्रताप सिंह, रंगनाथ चौबे, ओमप्रकाश, अरविंद स्वर्णकार, तारकेश्वर प्रसाद, नीलू चौबे, राधेरमन चौबे समेत झारखंड के सभी जिलों से आए सैकड़ों पत्रकार शामिल हुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *